सिसोंदिया / गुहिल राजवंश की कुलदेवी “श्री बाण माता ”  

सिसोंदिया / गुहिल राजवंश की कुलदेवी “श्री बाण माता “

 मेवाड़ के राजकुल एवं इस कुल से पृथक हुई सभी शाखाओं की कुलदेवी बाण माता है । अतः मेवाड़ में इसकी प्रतिष्ठा एवं महत्त्व स्वाभाविक है ।

राजकुल की कुलदेवी बायणमाता / बाण माता   सिद्धपुर के नागर ब्राह्मण विजयादित्य के वंशजों के पास धरोहर के रूप में सुरक्षित रही है । जब-जब मेवाड़ की राजधानी कुछ समय के लिए स्थानान्तरित हुई वहीं यह परिवार कुलदेवी के साथ महाराणा की सेवा में उपस्थित रहा । नागदा, आहाड़, चित्तौड़ एवं उदयपुर इनमे मुख्य है ।

चैती एवं आसोजी नवरात्री में भट्ट जी के यहाँ से कुलदेवी को महलों में ले जाया जाता है । उस वक्त लवाजमें में ढ़ोल, म्यानों बिछात अबोगत (नई) जवान 10, हिन्दू हलालदार 4, छड़ीदार 1, चपरासी 1 रहता है ।

महलों में अमर महल (रंगभवन का भण्डार) की चौपड में जिसका आँगन मिट्टी का लिपा हुआ कच्चा है, स्थापना की जाती है । इस अवधि में कालिका, गणेश, भैरव भी साथ विराजते हैं । जवारों के बिच बायण माता के रजत विग्रह को रखा जाता है । इनमें सभी प्रकार के पारम्परिक लवाजमें में प्रयुक्त होने वाले अस्त्र शस्त्र एवं मुख्य चिन्न यहाँ रखे जाते है । अखण्ड ज्योति जलती है । विधि विधान से पूजा पाठ होते हैं । बाहर के दालान में पण्डित दुर्गासप्तशती के पाठ करते हैं । महाराणा इस अवधि में तीन-चार बार दर्शन हेतु पधारते थे । अष्टमी के दिन दशांश हवन संपन्न होता है । पूर्व में इसी दिन चौक में बकरे की बलि (कालिका के लिए) एवं बाहर जनानी ड्यौढ़ी के दरवाजे में महिष की बलि दी जाती थी , जो अब बंद हो गयी है ,उसके बदले में श्रीफल से बलि कार्य संपन्न किया जाता है । अष्टमी के दिन हवन की पूर्णाहुति के समय महाराणा उपस्थित रहते थे । तीन तोपों की सलामी दी जाती थी । नवमी के दिन उसी लवाजमें के साथ बायण माता भट्ट परिवार के निवास स्थान पर पहुँचा दी जाती थी ।

जय श्री बाण माताJai mata ban mata

 बाण माता का इतिहास 

बाण माता के इतिहास की जानकारी लेने से पूर्व यह प्रासंगिक होगा कि कुलदेवी का नाम बाण माता क्यों पड़ा ? जैसे राठौड़ों की कुलदेवी नागणेचा माता नागाणा गांव में स्थापित होने के कारण जानी जाती है । वैसे बायणमाता का किसी स्थान विशेष से सम्बन्ध जोड़ना प्रमाणित नहीं है। किन्तु यह सत्य है कि इस राजकुल की कर्मस्थाली गुर्जर देश (गुजरात) रही है ।

सिसोंदिया , गहलौत राजवंश की कुलदेवी का नाम बायण माता या बाण माता इसीलिए है क्योकि जब हमारे पूर्वज सौराष्ट्र ( गुजरात ) से यहा चित्तौडगढ आये तब वहा गुजरात में नर्मदा नदी से जो पाषाण निकलते थे। उनसे जो शिव जी की स्थापना होती थी , उन्हे बाण लिंग कहा जाता था । जिनके नाम से मेवाड में बाणेश्वर जी का मंदिर भी है , उन्ही बाणेश्वर महादेव की देवी पार्वती जी का एक अंश माँ बाण के रूप में प्रगट हुआ । जिन्होने प्राचीनकाल में बाणासुर नामक दैत्य का वध किया था , इसीलिए माँ दुर्गा माता का वह स्वरूप बाण माता के नाम से विख्यात है ।

जय श्री बाण माता

Spread the love

2 thoughts on “सिसोंदिया / गुहिल राजवंश की कुलदेवी “श्री बाण माता ”  

  1. क्षत्रिय समाज का जो भी भाई मांस मदिरा का सेवन करता हो। वो भाई इनका सेवन करना छोड़ दें। कयोंकि ये सब करने से हमारे क्षत्रिय धर्म की मान मर्यादाओं पर आंच आता है। अतः अपने धर्मरक्षार्थ को लेते हुए उचित पदार्थों का सेवन करें
    आग्रह है की जो करते होंगे छोड़ देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *